Romatic Shayari – Tu Ruh Ka Hissa Hai

Teri dhadhkan hi jindagi ka hissa hai mere,

Tu jindagi ka ak aahem hissa hai mera,

Meri mohabat sirf lafjo ki nahi,

Teri ruh se ruh tak rista hai mera.

 

तेरी धड़कन ही जिंदगी का हिस्सा है मेरे ,

तू जिंदगी का एहम हिस्सा है मेरे ,

मेरी मोहोबत सिर्फ लफ्जो की नहीं ,

तेरे रूह से रूह तक रिश्ता है मेरा।

Romatic Shayari – Tu Ruh Ka Hissa Hai
Rate this post