Romatic Bewafa Shayari – Tu Bewafa Kaha Tak Hai

Na Pach Mere Mohabat ki hadd kaha tak hai,

Tu sitam kar le, teri hasrat jaha tak hai,

Wafa ki ummid, jise hogi unhe hogi,

Hame toh dekhna hai tu bewafa kaha tha hai.

 

ना पूछ मेरी मोहोबत की हद कहा तक है ,

तू सितम कर ले , तेरी हसरत जहा तक है ,

वफ़ा की उम्मीद जिसे होगी उसे होगी ,

हमें तोह देखना है तू बेवफा कहा तक है।

Romatic Bewafa Shayari – Tu Bewafa Kaha Tak Hai
Rate this post